स्वच्छता पखवाड़ा

भा. कृ. अनु. प. - केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा, मुंबई


( स्वच्छता पखवाड़ा १६ से ३१ दिसंबर 2018 प्रस्तावित कार्यक्रम )


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – १६ दिसंबर २०१८

भा.कृ.अनु.प. से प्राप्त अधिसूचना के अनुसार दिनांक 16-31 दिसंबर 2018 से स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन किया जा रहा है । कार्यक्रम कैलेंडर के अनुसार यारी रोड परिसर में स्थित टाइप IV तथा टाइप V अवासीय परिसर में दिनांक 16 दिसंबर 2018 को स्वच्छता अभियान का आयोजन किया गया । टाइप IV तथा टाइप V में रहने वाले सभी अधिकारी/कर्मचारी 11.00 बजे अंतरराष्ट्रीय अतिथि गृह के सामने एकत्रित हुए, संस्थान के निदेशक/कुलपति डा गोपाल कृष्णा जी ने एकत्रित सभी अधिकारियों/कर्मचारियों को स्वच्छता पर प्रतिज्ञा दिलाई, इसके बाद कार्यालय तथा परिसर में सफाई के महत्व पर एक संक्षिप्त चर्चा की गई । इसके अलावा, इस बात पर जोर दिया गया कि कार्यालय तथा परिसर में उपयुक्त रणनीति का पालन कर शुष्क और गीले अपशिष्ट के निपटान को व्यवस्थित करने की आवश्यकता है । स्वच्छता पखवाड़े के महत्व को प्रदर्शित करने वाले सूचनात्मक प्लेकार्ड और बैनर उचित स्थानों पर रखे गए थे । इसके बाद टाइप IV तथा टाइप V के आवासीय परिसर में सफाई अभियान शुरु किया गया, जिसमें सभी ने सक्रिय रुप से भाग लिया । डा बी बी नायक, डा एन एस नागपुरे तथा डा पारोमिता बी सावंत ने भा.कृ.अनु.प.- के.मा.शि.सं. मुंबई के आवासीय परिसर में स्वच्छता अभियान की सफलता के लिए सक्रिय रुप से समन्वयन किया ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – १७ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत संस्थान की प्रयोगशालाओं, विभागों और दफ्फतरों इत्यादि में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान का नेतृत्व विभागाध्यक्षों और प्रभागि अधिकारीयों ने किया। इस अभियान में विभाग के सभी कर्मचारियों छात्रों ने भी अपना योगदान दिया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – १८ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. संस्थान के कर्मचारियों द्वारा वरसोवा गांव और लैंडिंग केंद्र में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान का नेतृत्व श्री अंगोम लेनिन सिंह, श्री धलोगसिह रैंग, श्रीमती रेश्मा राजे ने किया। इस अभियान में कर्मचारियों के साथ गांव के लोगों ने भी अपना योगदान दिया। सबने बड़ी मेहनत और उत्साह से सूखी मछली, टूटी और अनुपयोगी सामाग्री, पानी का जमाव, आदि साफ़ किया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – १९ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. संस्थान के कर्मचारियों और छात्रों द्वारा वर्सोवा समुद्र तट पर सफाई अभियान किया गया। उन्होंने पोस्टरों और स्लोगनों द्वारा स्वच्छता के महत्व की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित किया। सभी बच्चों ने वर्सोवा समुद्र तट की सफ़ाई की और कूड़ा नगरपालिका के कूड़े दानो में एकत्रित किया। इस अभियान का नेतृत्व डा ए. के. बालंगे, da. डा. आशुतोष देव, डा. मार्टिन ज़ेवियर और श्री शशीभूषण ने किया। एम.एफ.एस.सी. प्रथम वर्ष छात्रों ने इसमें भाग लिया। अन्य वैज्ञानिकों ने भी इस अभियान में भाग लिया और इस अभियान को सफल बनाया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २० दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान वर्मीकंपोस्टिंग सुविधा का उद्धघाटन किया गया और साथ ही कंपोस्टिंग सुविधा का निरीक्षण भी किया गया। वर्मीकंपोस्टिंग अभियान द्वारा भविष्य में परिसर स्थित सभी पेड़ो को पौष्टिक खाद मिलेगी। इस अभियान का नेतृत्व डा. एम. एच. चंद्रकांत और श्री प्रणय बिस्वाल ने किया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २१ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान (सात बंगला परिसर) के युवक छात्रावास में सफ़ाई अभियान चलाया गया। इस अभियान का नेतृत्व डा ए. के. बालंगे, श्रीमान प्रसन्नजीत सोनवणे, श्रीमान योगेश जाधव ने किया और संबंधित छात्रों ने भी भाग लिया। इस अभियान में छात्रों ने छात्रावास के परिसर में सफाई की और प्लास्टिक बैग, बोतलें और अन्य व्यर्थ सामान को एकत्रित करके कूड़ा कूड़े दानो में एकत्रित किया जिससे पूरा परिसर स्वच्छ और सुन्दर दिखाई दे रहा था।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २२ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान के समस्त छात्र-छात्राओं के लिए निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गयी। इस प्रतियोगिता के विषय: (1) अपशिष्टहीन चुनौती के लिए रचनात्मक विचार (2) स्वच्छता हम सभी की ज़िम्मेदारी (3) प्रदूषण का प्रभाव और पर्यावरणीय प्रदूषण से बचने के उपाय (4) प्रदूषण से जैव विविधता को खतरा । इस प्रतियोगिता का आयोजन डा. एस. एन. ओझा, श्रीमती. हुस्ने बानू एवं श्री. पी. के. दास ने किया और इस प्रतियोगिता को सफल बनाया। निर्णायक मंडली ने निबंधों की जांच की और 3 सर्वश्रेष्ठ निबंधों का चयन किया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २३ दिसंबर २०१८

कें. मा. शि. सं. संस्थान में किसान दिवस के अवसर पर दिनांक 8 दिसंबर २०१८ को संगोष्ठी आयोजित की गयी। इस अवसर पर किसानो के लिए आंतरस्थलीय लवणीय जलकृषि विषय पर व्याख्यान दिया गया। कुछ किसानो ने भी इस विषय पर अनुभव और विचार प्रकट किये। दिनांक 23 दिसंबर को संस्थान के काकीनाड़ा केंद्र में किसान संगोष्ठी आयोजित की गयी थी जो साइक्लोन फेठाई के कारण रद्द करनी पड़ी। काकीनाड़ा संगोष्ठी का आयोजन डा. मुरलीधर अंडे, डा. अरुण शर्मा, डा. टी. आई. चानु ने किया था जो कि आखरी क्षण रद्द करना पड़ा ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २४ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान के आसपास के परिसर में स्वच्छता अभियान किया गया। इस अभियान का नेतृत्व डा. आशुतोष देव, डॉ रूपम शर्मा, सिकेन्द्र कुमार और श्री.मनीष जयंत ने किया और संस्थान के सभी छात्र भी इस अभियान में शामिल हुए। छात्रों ने स्वच्छता के महत्व और कचरे को कम करने के तरीकों के बारे में ऑटो चालकों, सड़क के किनारे के विक्रेताओं और अतिचारियों को भी जागरूक किया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि स्वच्छता सभी की जिम्मेदारी है।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २५ दिसंबर २०१८

सस्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान (यारी रोड परिसर) के युवक छात्रावास में सफ़ाई अभियान चलाया गया। इस अभियान का नेतृत्व डा. रूपम शर्मा श्री. सादिक मुल्ला ने किया और निवासी छात्र ने भी भाग लिया। इस अभियान में छात्रों ने छात्रावास के परिसर में सफाई की और प्लास्टिक बैग, बोतलें और अन्य व्यर्थ सामान को एकत्रित करके कूड़ा कूड़े दानो में एकत्रित किया जिससे पूरा परिसर स्वच्छ और सुन्दर दिखाई दे रहा था।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २६ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान के कर्मचारियों के बच्चों के लिए स्वच्छता विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता रखी गयी, जिसमे बच्चों ने उत्साह से भाग लिया। यह प्रतियोगिता का आयोजन डा. पारोमिता सावंत, श्री. एस. के. शर्मा, श्रीमान. दीपक खोगरे और श्रीमती रेखा नायर के देखरेख में हुई। सभी बच्चों ने अपने चित्रों में इंद्रधनुषीय रंग बिखेर कर प्रतियोगिता को सफल बनाया। निर्णायक मंडली ने सर्वश्रेष्ठ तीन प्रतियोगियों को पुरस्कृत किया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २७ दिसंबर २०१८

संस्थान के जलकृषि हेचरी/ वेट लैब में सफाई अभियान किया गया। इसके समन्वयक डा॰ एन के चडढा थे। इस अभियान का आयोजन डा. किरण दुबे, डा॰ बबिता रानी, श्रीमती माधुरी पाठक और डा॰ के डी राजू ने किया। जल संवर्धन विभाग के अन्य वैज्ञानिको और तकनीकी अफ़सरों के साथ मिलकर छात्रों ने बड़े जोश से सफ़ाई की। इस अभियान द्वारा जलकृषि हेचरी परिसर स्वच्छ एवं सुन्दर बनाया गया ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २८ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान के यारी रोड परिसर और सात बंगला परिसर के जलपान गृह में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान का नेतृत्व डा. के. पानी प्रसाद, डा. कुंदन कुमार ने किया और जलपान गृह के कर्मचारियों ने भी इसमें भाग लिया। इस अभियान से जलपान गृह स्वच्छ और सुन्दर दिखाई दे रहा था।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २९ दिसंबर २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कें. मा. शि. सं. संस्थान के कर्मचारी आवास (सात बंगला परिसर) में सफाई अभियान किया गया । इस अभियान का नेतृत्व डा. गिरीश बाबू, श्री. एस. बांदकर एवं श्री. प्रसेनजित सोनावने ने किया । डा. पवन कुमार, डा. शामना एन., श्री. योगेश जाधव, श्री. पवन कुमार, श्री. सादिक मुल्ला, और अन्य लोगों ने भी इसमें भाग लिया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – ३० दिसंबर २०१८

समहिला छात्रावास (यारी रोड परिसर) में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान में छात्रावास में रहने वाली सभी लड़कियां शामिल हुईं। इस अभियान में छात्राओं ने छात्रावास और उसके आस पास सफाई की और सूखे पत्ते, प्लास्टिक बोतलें और अन्य व्यर्थ सामान को एकत्रित करके कूड़ेदान में फेंका। इस सफाई अभियान का निरीक्षण डा. गायत्री त्रिपाठी और डा. एल. मंजूषा ने किया और छात्रों को प्रोत्साहित करने के साथ साथ सफाई में भी हाथ बटाया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – ३१ दिसंबर २०१८

कें. मा. शि. सं. में स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत संस्थान के परिसर को हरित व आकर्षक बनाने हेतु पखवाड़े के अंतिम दिवस वृक्षारोपण का आयोजन किया गया और सराका अशोका के पेड़ लगाए गए। डा. चंद्रकांत और श्री प्रणय बिस्वाल ने संस्थान के निदेशक डा. गोपाल कृष्ण एवं अन्य वैज्ञानिकों से वृक्षारोपण करवाया।


REPORT ON SWACHCHHA BHARAT PAKHWADA held at ICAR-CIFE Kolkata Centre
During 16th December to 31st December, 2018


Kolkata Centre of Central Institute of Fisheries Education successfully observed “Swachchha Bharat Pakhwada” during 16th December to 31st December, 2018. All scientists, staff, students, and trainees have participated in the programme wholeheartedly by taking oath on Swachchha Bharat on 15th December, 2018 at 11.00 am under the leadership of Dr. G. H. Pailan, Officer in Charge, ICAR-CIFE Kolkata Centre.







( स्वच्छता पखवाड़ा 15 सितम्बर से 02 अक्टूबर 2018 प्रस्तावित कार्यक्रम )

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा २०१८ संक्षिप्त विवरण – १५ सितम्बर, २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान और सभी केंद्रो पर समस्त कर्मचारी एवं छात्रों ने स्वच्छता के प्रति अपनी निष्ठा व्यक्त करते हुए शपथ ली। मुंबई केंद्र में संस्थान के अधिष्ठाता डा. एन. पी. साहू ने सभी को स्वच्छता की शपथ दिलाई। समस्त कर्मचारियों ने मिलकर १ घंटा संस्थान के परिसर की साफ़ सफाई की जिसमें करीब 200 व्यक्तियों ने भाग लिया । इस अवसर पर परिसर में नए कूड़ेदान भी रखे गए और स्वच्छता के बैनर लगाए गए। पखवाड़े की समन्वयक डा. अपर्णा चौधरी ने आने वाले १५ दिनों के पखवाड़े के कार्यक्रम की रुपरेखा सबको बताई। ये कार्यक्रम संस्थान के निदेशक डा. गोपाल कृष्ण की देखरेख में निर्धारित किया गया और उन्होंने सबसे उत्साहपूर्वक भाग लेने को कहा। इसी अवसर पर छात्रों की भाषण प्रतियोगिता भी आयोजित की गयी जिसमे छात्रों ने स्वच्छता, जलवायु परिवर्तन, प्लास्टिक उपयोग के हानिकारक परिणाम एवं विकल्पों पर भाषण दिए। कई छात्रों ने इस बात पर चर्चा की कि व्यक्तिगत विकल्पों से हम किस तरह समाज में बदलाव ला सकते है। भाषण प्रतियोगिता में 20 प्रतिभागियों में से पहले ३ प्रतियोगियों को पुरस्कृत किया गया। करीब 300 व्यक्ति इस कार्यक्रम में उपस्थित थे । प्रथम पुरस्कार श्री मुकेश कुमार, द्वितीय कु. शुभरा सिंह एवं तृतीय श्री शुभम सिंह ने जीता ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – १६ सितम्बर, २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत लड़कों के छत्रपति शिवाजी छात्रावास (सात बंगला परिसर) में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान में छात्रावास में रहने वाले एम.एफ.एस.सी और पी.एच.डी. छात्रों को शामिल किया गया । इस अभियान में छात्रों ने छात्रावास के परिसर में सफाई की और प्लास्टिक बैग, बोतलें और अन्य व्यर्थ सामान को एकत्रित करके क्षेत्र की सफाई की। इस अभियान का नेतृत्व उप-वार्डन डा. ए. के. बलंगे और छात्र आयोजकों श्री अतुल मुरगन, श्री. रमजानुल हकीक़, श्री. राजेश दास, श्री. फिबी फिलिप्स ने किया । लगभग 150 छात्रों और छात्रावास के कर्मचारियों ने इस कार्यक्रम में अपना भरपूर योगदान दिया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – १७ सितम्बर, २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में छात्रों और कर्मचारियों के लिए स्लोगन और पोस्टर बनाने की प्रतियोगिता रखी गयी। इस प्रतियोगिता के विषय थे स्वच्छता में हमारा योगदान, स्वच्छता के लाभ, जलवायु परिवर्तन, प्लास्टिक उपयोग के हानिकारक परिणाम एवं विकल्प आदि । इस आयोजन का नेतृत्व डा. विद्याश्री भारती, डा. मुजाहिद खान पठान और सुश्री रेशमा राजे ने किया। छात्र आयोजकों, सुश्री अनिशा वी., सुश्री जेरुशा एस, श्री उत्सा रॉय और श्री चिन्मय नंदा ने भी अपना योगदान दिया। इस प्रतियोगिता में २५ छात्र एवं कर्मचारियों ने भाग लिया और रंग बिरंगे पोस्टरों और प्रभावी स्लोगनों से कार्यक्रम को सफ़ल बनाया। पोस्टरों को पुस्तकालय में प्रदर्शित किया गया और ३ श्रेष्ठ पोस्टरों को पुरस्कृत किया गया। पुरस्कृत छात्रों के नाम श्री आकाश जे एस, कु अनिशा वी एवं श्री देवेंद्र रावराने हैं ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – १८ सितम्बर २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत संस्थान की अत्यंत ही महत्वपूर्ण जल संवर्धन (मछली पालन) प्रयोगशाला में स्वच्छता अभियान चलाया गया, जिसमें लगभग ७० छात्रों एवं वैज्ञानिकों ने भाग लिया। सबने बड़ी मेहनत और उत्साह से सूखे पत्ते, टूटी और अनुपयोगी सामाग्री, पानी का जमाव, आदि साफ़ किया। इस अभियान का नेतृत्व कें. मा. शि. सं. के वैज्ञानिकों, डा. कुंदन कुमार, डा. सिकेंद्र कुमार और सुश्री रथी भुबनेश्वरी ने किया। डॉ अपर्णा चौधरी, डॉ स्वदेश प्रकाश और श्री प्रणय बिसवाल और अन्य कर्मचारियों ने भी भरपूर योगदान दिया । इस अभियान में सारे छात्रों ने अपने योगदान से प्रयोगशाला की सफाई में चारचांद लगा दिए।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – १ ९ सितम्बर २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत संस्थान के प्रशासनिक विभाग में सफाई अभियान का आयोजन किया गया, जिसका नेतृत्व श्री महेश खुबड़ीकर (वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी) एवं श्री प्रशांत शर्मा (चीफ वित्त एवं लेखा अधिकारी) ने किया। साथ ही सभी वर्क्स अनुभाग, खरीदारी अनुभाग, वित्त अनुभाग, लेखा परीक्षा अनुभाग के सारे कर्मचारियों ने भी इसमें अपना सहयोग दिया और अपने अपने कार्य क्षेत्र की सफाई की । इस आयोजन में लगभग ७० लोगो ने सहभाग लिया। इस आयोजन में सभी ने अपनी मेज़ें और आसपास की जगह साफ़ की और फाईले साफ़ कर उनका रख रखाव उचित ढंग से किया । व्यर्थ सामान को भी अलग जगह एकत्रित किया गया जिससे कामकाजी जगह उपलब्ध हो पायी।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २० सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत महिला छात्रावास (यारी रोड परिसर) में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान में छात्रावास में रहने वाली सभी लड़कियां शामिल हुईं और लगभग ५० छात्राओं ने सहभाग लिया। निदेशक महोदय की धर्मपत्नी डा. सुजाता सक्सेना ने सफाई अभियान का निरीक्षण किया और छात्रों को प्रोत्साहित करने के साथ साथ सफाई में भी हाथ बटाया। इस अभियान में छात्राओं ने छात्रावास और उसके आस पास सफाई की और सूखे पत्ते, प्लास्टिक बोतलें और अन्य व्यर्थ सामान को एकत्रित करके कूड़ेदान में फेंका । इस अभियान का नेतृत्व महिला छात्रावास वार्डन डा. गायत्री त्रिपाठी और उपवार्डन सुश्री मंजुशा ने किया। छात्र आयोजकों (सुश्री. नरेंद्र कौर, सुश्री. धन्या लाल, सुश्री. सोनल सुमन, सुश्री. भारथि रथिनाम) के साथ मिलकर सभी ने अपना योगदान दिया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २१ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कर्मचारियों के लिए इस विषय पर भाषण और कविता प्रतियोगिता रखी गयी। इस प्रतियोगिता का आयोजन संस्थान के समिती कक्ष में रखा गया जिसमें १६ प्रतिभागी थे और लगभग ५० लोग उपस्थित थे । इसका आयोजन डा. गीतांजलि देशमुखे, श्रीमती हुस्ने बानू और सुश्री. रेवती धोगड़े ने किया। इस प्रतियोगिता में ‘स्वच्छता अभियान की सफलता’ एवं ‘प्लास्टिक – भ्रह्मराक्षस’ इन दो विषयों पर भाषण एवं कवितायें प्रस्तुत की गईं। निर्णायक मंडली ने तीन सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियों को पुरस्कृत किया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २२ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत कर्मचारियों के बच्चों के लिए स्वच्छता विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता रखी गयी। जिसमे कर्मचारियों के लगभग २० बच्चों ने भाग लिया। यह प्रतियोगिता डा. एन. पी. साहू, विभागाध्‍यक्ष के देखरेख में हुई। इस प्रतियोगिता का आयोजन डा. एस. एन. ओझा, श्री. एस. के. शर्मा, श्री. पी के दास, श्रीमान. दीपक खोगरे, श्री. भुम्मैया दसारी ने किया और छात्र आयोजकगण में सुश्री. नज़ाइबा मोहम्मद, सुश्री. भारथि रथिनाम,श्री संमित प्रियदर्शि, श्री सुतानु कर्माकर ने अपना सहयोग दिया। यह प्रतियोगिता ३-९ वर्ष और १०-२० आयु वर्ग में की गयी। इसके विषय:- 1. मछली जल की रानी 2. नीली क्रांति 3. प्राकृतिक आपदा और मात्स्यिकी 4. स्वच्छता अभियान थे। सभी बच्चों ने अपने चित्रों में इंद्रधनुषीय रंग बिखेर कर प्रतियोगिता को सफल बनाया। निर्णायक मंडली ने सर्वश्रेष्ठ तीन प्रतियोगियों को पुरस्कृत किया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त रिपोर्ट – २३ सितम्बर, २०१८

स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत युवक के नये छात्रावास में सफाई अभियान किया गया। इस अभियान में छात्रावास में रहने वाले पी.एच.डी. छात्रों को शामिल किया गया । इस अभियान में छात्रों ने छात्रावास के परिसर में सफाई की और प्लास्टिक बैग, बोतलें, सूखी पत्तियाँ और अन्य व्यर्थ सामान को एकत्रित करके क्षेत्र की सफाई की जिससे पूरा परिसर स्वच्छ और सूंदर दिखाई दे रहा था। इस अभियान का नेतृत्व वार्डन डा. एन एस नगपुरे, उपवार्डन डा. रूपम शर्मा ने किया और छात्र आयोजकों शिवगुरुथन यू., श्री. चंदन हलदर, श्री. वेलुमानी टी. और श्री. प्रसंथा जाना ने सहयोग दिया । लगभग 30 छात्रों ने इसमें भाग लिया और अपना भरपूर योगदान दिया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २ ४ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत वरसोवा वेलफेयर स्कूल के युवती छात्राओं के लिए दो विषयो पर व्याख्यान आयोजित किए गए । व्याखान के विषय थे (1) व्यक्तिगत स्वच्छता अधिनियम, (2) मछली लैंडिग केन्द्र में स्वच्छता की परिभाषाएं । संस्थान की वैज्ञानिक डा. पारोमिता बी. सावंत और डा. मंजूषा एल. ने इन विषयों पर वक्तव्य दिये । व्यक्तिगत स्वच्छता एक अनिवार्य आवश्यकता है, खासकर युवती छात्राओं के लिए जिनको बढ़ती उमर के साथ साथ कई शारीरिक एवं मानसिक कठिनाइओं का सामना करना पड़ता है। इस संदर्भ में डा. पारोमिता बॅनर्जी सावंत ने वरसोवा वेलफेयर स्कूल के आठवीं कक्षा के छात्राओं को जागरूक किया। इसके पश्चात डा. मंजूषा ने लैंडिंग केंद्र में स्वच्छता कायम रखने के तौर तरीके बताए एवं जिवाणु दूषण के कारण पर भी प्रकाश डाला। करीब 100 बच्चों ने इस कार्यक्रम से लाभ उठाया और पाठशाला की प्रधानाचार्या ने संस्थान की इस पहल को बहुत सराहा ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २५ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत संस्‍थान के समस्‍त वैज्ञानिकों, अधिकारियों, कर्मचारियों एवं छात्र-छात्राओं के लिएनिबंध प्रतियोगिता आयोजितकीगयी।इस प्रतियोगिता के विषय थे – (1) जलवायु परिवर्तन का मात्स्यिकी पर प्रभाव (2) स्वच्छ और सुंदर भारत (3) प्रभारी नेतृत्व (4) सोशल मिडिया का जन-जीवन पर प्रभाव (5) लोक प्रशासन में पारदर्शिता का महत्व। इस प्रतियोगिता का आयोजन डा. अर्पिता शर्मा, श्रीमती नलिनी पुजारी, सुश्री रेवती धोंगडे एवं श्रीमती अनु ग्रोवर ने किया। इस प्रतियोगिता में लगभग १० प्रतियोगिताओं ने भाग लिया और इस कार्यक्रम को सफल बनाया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २६ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत स्वच्छता का संदेश फ़ैलाने हेतु संस्थान के छात्रों ने संस्थान से वरसोवा समुद्र तट तक मार्च किया और स्लोगन और पोस्टर द्वारा स्वच्छता के महत्व की बात लोगों तक पहुंचाई। वरसोवा तट पर उन्होंने सफाई अभियान चलाया और प्लास्टिक बैग, बोतलें जैसा कूड़ा एकत्रित करके कूड़ेदानों में फेंका। इस मार्च समूह के समन्वयक डा. मुकुंदा गोस्वामी, डा. मेघा बेडेकर, श्री. शशिभूषण, श्री. अंगोम लेनिन सिंह ने किया। इसी के साथ छात्र आयोजक गण में सुश्री शोभा रावत, श्री. चुनरी सथिस श्री. अबुथगीर एस, सुश्री भारथि रथिनाम ने भी अपना योगदान दिया । लगभग 50 स्नातकोत्तर और पीएचडी छात्रों ने भाग लिया। गणपति विसर्जन के पश्चात तट पर विविध प्रकार का कूड़ा और गन्दगी जमा हो जाती है। इसीलिए यह कार्यक्रम विसर्जन के बाद रखा गया। छात्रों को मोर्चा निकलते हुए करीब 200 लोगों ने देखा और विभिन्न स्लोगनों के ज़रिये उन में भी सफाई के प्रति ज़िम्मेदारी का बोध उत्पन्न किया गया।


ककेंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २ ८ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत के. मा. शि. संस्थान के जलकृषि हेचरी/ वेट लैब में सफाई अभियान किया गया। इसके समन्वयक डा॰ एन के चडढा थे। जल संवर्धन विभाग के अन्य वैग्यानिकों और तकनीकी अफ़सरों के साथ मिलकर छात्रों ने बड़े जोश से सफ़ाई की। छात्र आयोजकों में श्रीमान मनमोहन कुमार और सुश्री नहिदा रशीद थे जिनके साथ कई छात्रों ने भी अपना सहयोग दिया। इस अभियान द्वारा जलकृषि हेचरी परिसर स्वच्छ एवं सुन्दर बनाया गया ।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – २९ सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत संस्थान के बेसमेंट में और परिसर की दीवार के आस-पास स्वच्छता अभियान चलाया गया। इसका नेतृत्व डा. स्वदेश प्रकाश एवं डा. चंद्रकांत एम्. एच. ने किया। सहयोगियों में श्री सागर सावंत, श्री देवेंद्र रावराने और अन्य कर्मचारी शामिल थे । बेसमेंट में नीलामी के लिए एकत्रित की गयी और अन्य पुरानी वस्तुएँ रखी जाती हैं। इन्हें साफ कर के ठीक से रखा गया। इसी प्रकार परिसर की दीवार के पास बाहर के लोगों द्वारा फेंका हुआ कूड़ा, कागज़, रैपर, बोतलें, इत्यादि, एकत्रित हो जाता है जिसे उठा कर कूड़ेदानों में फेंका गया।


केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा मुंबई में स्वच्छता पखवाड़ा संक्षिप्त विवरण – ३० सितम्बर, २०१८

केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, मुंबई में स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत संस्थान के अंतरराष्ट्रीय अतिथि गृह और डॉल्फिन अतिथि गृह में स्वच्छता अभियान किया गया। इसका नेतृत्व श्री शुभाष चंद (प्रभारी अधिकारी), श्री योगेश जाधव और श्री प्रसेनजित सोनावणे तकनीकी अधिकारियों ने किया। अन्य कर्मचारियों ने अपना सहयोग दिया। सारा कूड़ा, सूखे पत्ते, प्लास्टिक बैग, बोतलें, इत्यादि एकत्रित करके कूड़ेदानों में फेंका गया। इसके फलस्वरूप दोनों अतिथि ग्रह साफ सुथरे हो गए। इस कार्यक्रम में लगभग 20 लोगों ने भाग लिया।


महात्मा गाँधी के जन्म के १५०वें वर्ष के आरंभ पर स्मरणोत्सव एवं स्वच्छता पखवाड़ा समापन समारोह केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा, मुंबई –
२ अक्टूबर, २०१८


महात्मा गांधी जयंती 2 अक्टूबर 2018 को संस्थान में बापू के जन्म के १५०वें वर्ष के आरंभ पर स्मरणोत्सव मनाया गया। यह कार्यक्रम संस्थान के निदेशक डॉ गोपाल कृष्ण की देख रेख में आयोजित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में श्री परमजीत सिंह उपस्थित थे, जो कि भारतीय आयकर विभाग में कमिश्नर होने के साथ साथ एक समाजसेवी संघटन ‘धर्म भारती मिशन’ के संस्थापक भी हैं। शुरुवात में स्वच्छता पखवाड़े की समन्वयक डा. अपर्णा चौधरी ने सबका स्वागत किया और इस महत्वपूर्ण अवसर एवं स्वच्छ्ता पखवाड़े के समापन समारोह पर सबको बधाई दी। उन्होंने पखवाड़े के अंतर्गत आयोजित कार्यकर्मो का ब्योरा दिया और भरपूर योगदान देने के लिए सबका धन्यवाद् किया। साथ ही डॉ कुन्दन कुमार और डॉ सिकेन्द्र कुमार को प्रथम और डॉ परोमिता सावंत और डॉ मंजूषा एल को द्वितय आयोजक पुरस्कार मुख्य अतिथि के कर कमलों द्वारा प्रदान किया गया। इस अवसर पर महात्मा गांधी के सामाजिक - आर्थिक विचारों पर डा. एस. एन. ओझा (विभागाध्यक्ष, प्रसार विभाग) ने रोचक वक्तव्य दिया जिसमें यह भी चर्चा की गयी कि अहिंसा के मूल्य का मौजूदा परिवेश में कैसे प्रयोग हो सकता है । मुख्य अतिथि ने अपनी गैर-सरकारी संस्था ‘धर्म भारती मिशन’ के कार्यकर्मो का उल्लेख किया और छात्रों को उत्साहित किया कि वे अपनी निजी छोटी-छोटी परेशानियों से उठकर समाज में अपनी ज़िम्मेदारियों को पहचानें और सामाजिक बराबरी के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए दृढ़ कदम उठायेँ। संस्थान के निदेशक डा. गोपाल कृष्णा ने समस्त कर्मचारियों को और छात्रों को बधाई दी और आशा जताई की वे संपूर्ण निष्ठा एवं समाजिक समर्पण के भाव से अपना कार्य करेंगे और स्वच्छता की ओर निजी ज़िम्मेदारी हमेशा निभाएंगे। डा. पारोमिता सावंत ने कर्णप्रिय स्वर में गांधीजी का प्रिय भजन 'वैष्णव जन तो' प्रस्तुत किया और संस्थान के छात्रों ने भी एक भजन गाया। के. मा. शि. संस्थान के छात्रों द्वारा उत्तम लघुनाटिका का मंचन भी हुआ। आने वाला वर्ष महात्मा गांधीजी का १५०वा जन्मवर्ष है और इस अवसर पर विशेष चिन्ह बनाया गया है। इस चिन्ह को कार्यालय की स्टेशनरी पर अंकित किया गया और इसका विमोचन किया गया। निदेशक अवं अन्य विभागध्यक्षों ने इस अवसर पर वृक्षारोपण भी किया। इस कार्यक्रम में आस पास के स्कूलों एवं मच्छीमार संघ के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया।

भा. कृ. अनु. प. - केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा, मुंबई


( Swachhta Hi Seva 11th Sept to 2nd Oct 2019 )


Swachhta Hi Seva 11th Sept to 2nd Oct 2019

Staff and students of CIFE and its Centres participated in the Swachhata Hi Seva campaign organized by ICAR institutes during 11th Sep to 2nd Oct 2019. This time the focus of the campaign was reducing the use of single-use plastic officially and personally. Further the objective was to promote recycling of plastic waste to produce artifacts of long term use. In order to achieve this objective, the Institute issued the circular banning the use of disposable water bottles, plates, spoons, etc. for all official meetings and functions. Various competitions were organized in which the students and staff created banners, posters and slogans to reduce, re-use and re-cycle plastics. A monthly plastic collection drive was announced for staff and students and monthly lucky draw prizes are given to participants to promote plastic re-cycling. The Institute has tied up with the NGO Sampoorna Earth Foundation to re-cycle the collected plastic waste. The students marched in the neighborhood with banners to spread awareness and carried out Cleanliness Drives at Versova Beach and Versova Landing Centre. A plantation drive was also held. Faculty members of CIFE delivered lectures at a neighbouring municipal school where they highlighted the ill-effects of plastic waste on aquatic life and interacted with students on the ways by which plastic pollution can be checked. A Matsyakala Workshop was organized, wherein the participants who were post-graduate students of J. J. School of Arts, Mumbai made ‘Plastic Pollution’ one of the themes of their paintings. The program ended with special event organized on 2nd October 2019 to celebrate 150th year of Mahatma Gandhi. Students sang Mahatma Gandhi’s favourite bhajans and performed a skit, after which everyone participated in a Campus cleaning and plantation drive. The Director, Dr. Gopal Krishna distributed jute bags among staff and students who pledged to continue their commitment to cleanliness and reduce, reuse and recycle plastic.

भा. कृ. अनु. प. - केंद्रीय मात्स्यिकी शिक्षा संस्थान, वर्सोवा, मुंबई


(स्वच्छता पाखावाड़ा १६ से ३१ दिसंबर २०२०)
दिनांक १६ से ३१ दिसंबर २०२० स्वच्छता पखवाड़ा मनाया गया। इसके अंतर्गत संस्थान के मुख्यालय एवं केंद्रों पर निम्नलिखित कार्यक्रम किये गए।


१६ दिसंबर २०२० शपथ ग्रहण, वृक्षारोपण, बैनर प्रदर्शन और पखवाड़े का कार्यक्रम कैलेंडर

स्वच्छता पखवाड़े का आरंभ करते हुए संस्थान के निदेशक डॉ गोपाल कृष्णा ने समस्त कर्मचारियों को स्वच्छता की शपथ दिलाई और संस्थान के केन्द्रों पर भी अधिकारियों ने सभी कर्मचारियों को स्वच्छ्ता कि शपथ दिलाई और वृक्षारोपण किया। डॉ गोपाल कृष्णा ने समस्त कर्मचारियों को बताया कि कोविड महामारी से बचने में सफ़ाई का बड़ा महत्व है और इसे जीवन में अपनाना अनिवार्य है। इसके अतिरिक्त सिंगल यूस प्लास्टिक के बहुत दुष्परिणाम हैं और इसका प्रयोग न्यूनतम रखने में सब अपना योगदान दें । उन्होनें इस बात पे ज़ोर दिया कि निवासो और छात्रावासों में शुष्क और गीले अपशिष्टों को पृथक रखने का सिलसिला जारी रखा जाये। इस अवसर पर स्वच्छता सम्बन्धी बैनर प्रदर्शित किए गए। स्वच्छता पखवाड़े की समन्वयक डा. अपर्णा चौधरी ने पखवाड़े के कार्यक्रम से सबको अवगत कराया। संस्थान और केंद्र मिला कर लगभग 1000 लोगों ने शपथ ली ।


१७ दिसंबर २०२० संस्थान के प्रशासनिक विभाग में सफाई अभियान

स्वच्छता पखवाड़े का आरंभ करते हुए संस्थान के निदेशक डॉ गोपाल कृष्णा ने समस्त कर्मचारियों को स्वच्छता की शपथ दिलाई और संस्थान के केन्द्रों पर भी अधिकारियों ने सभी कर्मचारियों को स्वच्छ्ता कि शपथ दिलाई और वृक्षारोपण किया। डॉ गोपाल कृष्णा ने समस्त कर्मचारियों को बताया कि कोविड महामारी से बचने में सफ़ाई का बड़ा महत्व है और इसे जीवन में अपनाना अनिवार्य है। इसके अतिरिक्त सिंगल यूस प्लास्टिक के बहुत दुष्परिणाम हैं और इसका प्रयोग न्यूनतम रखने में सब अपना योगदान दें । उन्होनें इस बात पे ज़ोर दिया कि निवासो और छात्रावासों में शुष्क और गीले अपशिष्टों को पृथक रखने का सिलसिला जारी रखा जाये। इस अवसर पर स्वच्छता सम्बन्धी बैनर प्रदर्शित किए गए। स्वच्छता पखवाड़े की समन्वयक डा. अपर्णा चौधरी ने पखवाड़े के कार्यक्रम से सबको अवगत कराया। संस्थान और केंद्र मिला कर लगभग 1000 लोगों ने शपथ ली ।


१८ दिसंबर २०२० मेरा गाँव मेरा गौरव द्वारा गोद लिए गए गांवों में मुख्यालय और केंद्रों द्वारा स्वच्छता अभियान

के. मा. शि. स. मे दिनांक 18 दिसंबर 2020 को संस्थान के केंद्रों में ‘मेरा गाँव मेरा गौरव’ कार्यक्रम के तहत स्वच्छता सम्बंधित आयोजन किये गए । कार्यक्रम का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों को स्वच्छता, शारीरिक दूरी, और मास्क के उपयोग के प्रति जागरूक करना था, जिससे COVID-19 महामारी से निपटा जा सके। इस कार्यक्रम मे ग्रामीणों को फेस मास्क और हैंड सैनिटाइज़र दिए गए। उनके घर और पड़ोस के क्षेत्र को भी स्प्रेयर से साफ किया गया था। स्वच्छ्ता अभियान को लेकर एक जागरूकता रैली भी निकाली गई। इस रैली मे स्कूल के छात्रों ने भी अपना योगदान दिया। यह कार्यक्रम कोविड प्रोटोकॉल के नियमों को ध्यान मे रखते हुए आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का समन्वय के. मा. शि. स. केंद्रों के प्रभारी डॉ. जी. एच. पाइलन, डॉ. मुरलीधर पी. ए., डॉ. सुनील कुमार नायक और डॉ अकलाकुर ने किया। इस अभियान से संस्थान और केंद्र मिला कर लगभग 2000 लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक हुए ।


१९ दिसंबर २०२० छात्रावास, अवासीय परिसर और अतिथि गृह में स्वच्छता अभियान

संस्थान के छात्रावास, आवासीय परिसर और अतिथि गृह में स्वच्छता अभियान किया गया। आवासीय परिसर में रहने वाले सभी अधिकारी और कर्मचारी के साथ परिसर में सफाई के महत्व पर एक संक्षिप्त चर्चा की गई। इसके अलावा, इस बात पर ज़ोर दिया गया कि कार्यालय तथा परिसर में उपयुक्त रणनीति का पालन कर शुष्क और गीले अपशिष्ट के निपटान को व्यवस्थित करने की आवश्यकता है। छात्रावास, आवासीय परिसर और अतिथि गृह में स्वच्छता के महत्व को प्रदर्शित करने वाले सूचनात्मक प्लेकार्ड और बैनर उचित स्थानों पर रखे गए। इसके बाद आवासीय परिसर में सफाई अभियान शुरु किया गया, जिसमें लगभग 100 लोगो ने सक्रिय रुप से भाग लिया। डा. रूपम शर्मा, डा. गायत्री त्रिपाठी, डा. आशा लांडगे, डा. शशि भूषण, डा. लायना पी, ने इस अभियान का आयोजन किया और श्री शुभाष चंद, श्री सादिक मुल्ला, श्री प्रणय बिस्वाल और श्री पी. सोनावणे ने अपना सहयोग दिया।


२१ दिसंबर २०२० पानी की बचत और अपशिष्ट जल के पुनर्चक्रण के बारे में जागरूकता अभियान

संस्थान में अपराहन २ बजे पानी की बचत और अपशिष्ट जल के पुनर्चक्रण के बारे में जागरूकता अभियान के तहत ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमे डा. ए. के. वर्मा द्वारा एक्वापोनिक्स: मछली और पौधों का एकीकरण और डा. एस. पी. शुक्ला द्वारा क्षारीय उत्पादन के लिए एक्वाकल्चर अपशिष्ट जल का उपयोग और पुनर्चक्रण में अपना वक़्तव्य दिया। यह बताया गया कि पानी को कम से कम प्रयोग में लेकर ज्यादा से ज्यादा मछली एवं पौधों का उत्पादन कैसे किया जाये जिससे किसान अपनी आय बढ़ा सकता है। इस कार्यक्रम में एन. ई. एस. रत्नम कॉलेज ऑफ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स, भाँडुप, मुंबई, गुरु नानक खालसा कॉलेज ऑफ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स, माटुंगा पूर्व, मुंबई और सर सीताराम और लेडी शांताबाई पाटकर कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस, एस. वी. रोड, गोरेगांव (पश्चिम), मुंबई के विद्यार्थी एवं अध्यापको ने भाग लिया। इस कार्यक्रम का यु-टुब के जरिये लाइव प्रसारण भी किया गया और कुल 100 लोगों ने भाग लिया।


२२ दिसंबर २०२० “अनुपयोगी से उपयोगी" के विषय पर वेबिनार का आयोजन

संस्थान में शाम ४:०० बजे “अनुपयोगी से उपयोगी" विषय पर एक ऑनलाइन वेबिनार आयोजित किया गया। इस वेबिनार में (Sampurn Earth Solutions Pvt. Ltd.) सम्पूर्ण पृथ्वी सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड के श्री. मनोज मिश्रा, ने व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया की किस तरह की बेकार वस्तुओं को पुनः चक्रण करके उपयोगी वस्तुएं बनायी जा सकती हैं और प्रत्येक व्यक्ति किस प्रकार इस प्रक्रिया में अपना योगदान दे सकता है। उन्होंने संस्थान के छात्र और कर्मचारियों को अनुपयोगी सामग्री को उपयोग में लाने के लिए प्रेरित किया और इसके तरीके बताये। कुल 100 लोगों ने भाग लिया।


२३ दिसंबर २०२० किसान दिवस

संस्थान के पवारखेड़ा केंद्र में किसान दिवस मनाया गया। इस कार्यक्रम में आसपास के गाँव मे जाकर लोगों को स्वच्छता के महत्व के बारे मे जागृत किया गया। “मेरा गाँव मेरा गौरव योजना” के अंतर्गत गोद लिए गए नीटाया गाँव मे किसान दिवस के अवसर पर एक सम्मेलन किया गया, जिसमे गाँव के सरपंच और उपस्थित लगभग 50 किसानों को भारत सरकार द्वारा प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना के बारे मे जानकारी दी गयी। इस कार्यक्रम मे ग्राम पंचायत नीटाया की सरपंच श्रीमति पटेल और सचिव श्री रामाधार मालवीय ने किसानो को सरकार द्वारा दी गयी योजनाओं के बारे मे बताया। इसी कार्यक्रम मे पवारखेड़ा केंद्र, होशंगाबाद के प्रभारी अधिकारी डा. एस. के. नायक, श्री एल. पी. बमलिया, श्री हसन जावेद एव श्रीमती आशा धुरवे ने उपस्थित किसानों को स्वच्छता के महत्व के बारे मे और मत्स्य पालन की आधुनिक पद्धति जैसे बायोफ़्लाक और आर. ए. एस., के बारे मे जानकारी दी। स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत पवारखेड़ा केंद्र द्वारा किसानो को मास्क एव सैनिटाइजर वितरित किये गए। इस कार्यक्रम के उपरांत ग्राम नीटाया की गलियों, सड़कों, मंदिर परिसर, आंगनबाड़ी एव पंचायत भवन परिसर मे केंद्र के समस्त अधिकारियों एव कर्मचारियों द्वारा सफाई करने के बाद कार्यक्रम का समापन किया गया।


२४ दिसंबर २०२० वरसोवा गांव में सफाई अभियान

संस्थान के कर्मचारियों द्वारा वरसोवा गांव में स्वच्छता अभियान का आयोजन किया गया। इस अभियान का नेतृत्व डा सिकेंद्र कुमार, श्री आबुथागीर इब्राहिम और श्री पवन कुमार ने किया। संस्थान के अन्य कर्मचारियों ने भी इस अभियान में भाग लिया और संस्थान से वेर्सोवा गाँव लैंडिंग सेंटर तक की 2 km की दूरी तक मार्च किया । अभियान के दौरान विभिन्न पोस्टर और बैनर प्रदर्शित किए गए। शुष्क और गीले अपशिष्ट को रखने के लिए अलग-अलग कूड़ादान के उपयोग के बारे में लोगों को जागरूक किया गया। मार्च में 20 CIFE कर्मचारियों ने भाग लिया और इस अभियान से लगभग 1000 लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक हुए ।


२५ दिसंबर २०२० वर्सोवा समुद्र तट पर मार्च पास्ट और सफाई अभियान

संस्थान के कर्मचारियों द्वारा वरसोवा समुद्र तट तक मार्च आयोजित किया गया। इस मार्च और अभियान का आयोजन डा विद्या श्री भारती, डा कुंदन कुमार और डा मुजाहिद खान पठान ने किया। सबने प्रातः १०:०० बजे न्यू कैंपस से शुरुआत की और अपने बैनर, स्लोगन और पोस्टर के साथ समुद्र तट तक 1 km मार्च किया। स्लोगन और पोस्टर द्वारा स्वच्छता के महत्व की बात लोगों तक पहुंचाई। कें. मा. शि. संस्थान के कर्मचारियों ने वरसोवा तट पर सफाई अभियान चलाया और इस कार्यक्रम को सफल बनाया। सबने बड़ी मेहनत और उत्साह से प्लास्टिक बैग, बोतलें जैसा कूड़ा एकत्रित करके कूड़ेदानों में फेंका। इस मार्च में 20 लोगों ने भाग लिया और रास्ते और बीच पर लगभग 500 लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक हुए ।


२६ दिसंबर २०२० संस्थान के पास बस्तियों के छात्रों के लिए चित्रकला प्रतियोगिता

संस्थान के पास स्थित बस्ती में रहने वाले छात्रों के लिए स्वच्छता विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता रखी गयी। इस प्रतियोगिता का आयोजन डा मेघा बेडेकर, डा किरण रसाल और श्रीमती रेशमा राजे की देखरेख में हुई। इस स्वच्छता अभियान में प्रतिभोगियों और उनके परिवार जनों को अपने घरो में शुष्क और गीले अपशिष्ट अलग करने की सलाह दी और बताया गया कि प्लास्टिक पुनर्चक्रण के लिए यह उनका बहुत बड़ा योगदान होगा। इस प्रतियोगिता में १० बच्चों ने भाग लिया और लगभग 60 बस्तीवासियों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया । सभी बच्चों ने अपने चित्रों में इंद्रधनुषीय रंग बिखेर कर प्रतियोगिता को सफल बनाया ।


२७ दिसंबर २०२० केंद्रों द्वारा कृषक समुदाय के लिए अपशिष्ट प्रबंधन कार्यक्रम

संस्थान के कोलकता केंद्र में २७ दिसंबर, 2020 को पूर्वाह्न 11 बजे स्वच्छता पखवाड़ा कार्यक्रम के तत्वावधान में प्रशिक्षण सह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का समन्वयन कोलकता कार्यालय के प्रभारी डा. जी. एच. पैलन और डा.दिलीप कुमार सिंह ने किया। डा. जी. एच. पैलन, डा. एन. पी. साहू (विभागाध्यक्ष एवं अधिष्ठाता), डा. एस. एन. ओझा और आमंत्रित वक्ताओं ने सभी प्रतिभागियों, किसानों, उद्यमियों, छात्रों को संबोधित किया और स्वच्छता अभियान एवं प्रधान मंत्री मत्स्य सम्पदा योजना (PMMSY) के बारे में सबको जानकारी दी। व्यर्थ समझे जाने वाली सामाग्री को कैसे उपयोगी बनाया जा सकता है और उपयोग किए गए जल का किस तरह पुनरूपयोग किया जा सकता है इसके बारे में भी चर्चा हुई।


12 अपशिष्ट जल / बागवानी अनुप्रयोग और रसोई उद्यान के पुनर्चक्रण पर अभियान / जागरूकता

संस्थान के छात्रों ने जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से स्वच्छता विषय पर इ-पोस्टर बनाये। 10 छात्रों ने इस प्रतियोगिता में भाग लिया । इसके साथ ही संस्थान के छात्रों और कर्मचारियों के बच्चों के लिए चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रमों का आयोजन डॉ मेघा बेडेकर, डॉ ए. के. वर्मा, डॉ बाबिता रानी एवं डॉ किरण रसाल ने किया। चित्रकला प्रतियोगिता में लगभग २५ बच्चों ने प्रत्यश एवं ऑनलाइन माध्यमों से भाग लिया और संस्थान के निदेशक डॉ गोपाल कृष्णा एवं पखवाड़ा समन्वयक डॉ अपर्णा चौधरी ने उनका उत्साहवर्धन किया। सभी प्रतियोगियों ने सुन्दर रंगो और चित्रों द्वारा इस प्रतियोगिता को सफल बनाया।


२९ दिसंबर २०२० गीले कचरे की खाद

संस्थान में गीले अपशिष्ट से खाद बनाने का प्रबंधन किया गया जिसमे पत्ते और रसोई के कचरे के अवशेषों के साथ-साथ बागवानी उद्यान को अलग से एकत्र किया गया। इसके लिए लगभग डेढ़ मीटर गहरे गड्ढे खोदकर खाद तैयार का प्रबंध किया गया । स्वच्छता पखवाड़ा के दौरान हमारे परिसर में खाद के लिए लगभग 500 किलोग्राम गीला कचरा परतों में डाला गया। इस अभियान द्वारा भविष्य में परिसर स्थित सभी पेड़ो को पौष्टिक खाद मिलेगी। इस अभियान का नेतृत्व डा. एम. एच. चंद्रकांत और श्री प्रणय बिस्वाल ने किया।


३० दिसंबर २०२० संस्थान के केंद्रों में वृक्षारोपण अभियान

संस्थान के कोलकता केंद्र में सफाई अभियान किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन डा. एस. मुनील कुमार और श्री. राजेश महतो ने किया। इस कार्यक्रम में कोलकता केंद्र के मछली संग्रहालय को और मछली के नमूने वाले सभी जार को अच्छी तरह से साफ किया गया। मछली के नमूने के संरक्षण के लिए जार को औपचारिक रूप से भरा गया। इसके साथ ही पवारखेड़ा, केंद्र के परिसर को हरित व आकर्षक बनाने हेतु वृक्षारोपण का आयोजन किया गया। इसका आयोजन केंद्र के प्रभारी डा. सुनील कुमार नायक ने किया। जिसमे सभी कर्मचारियों ने भाग लिया और फूलों, फलो के पौधों का रोपण किया। संस्थान के अन्य केंद्रों पर भी प्रभारी अधिकारियों ने वृक्षारोपण किया।


३१ दिसंबर २०२० समापन समारोह

स्वच्छता पखवाड़ा के समापन समारोह पर संस्थान के निदेशक डॉ गोपाल कृष्णा ने कर्मचारियों एवं छात्रों को सम्भोदित किया और स्वच्छता की मुहिम को जीवन का हिस्सा बनाने पर ज़ोर दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में सबके योगदान को सराहा। पखवाड़े की समन्वयक डॉ अपर्णा चौधरी ने सभी आयोजकों को समय पर विवरण व छायाचित्र भेजने के लिए धन्यवाद दिया। उनहोंने पुनः सबको याद दिलाया कि प्लास्टिक व किसी भी प्रकार के कूड़े का सृजन न्यूनतम रखने पर ध्यान दें। इस अवसर पर वृक्षारोपण भी किया गया, और सरका और अशोका पेड़ों के पौधे लगाए गए। इसका नेतृत्व डा. चंद्रकांत और श्री प्रणय बिस्वाल ने किया।